Skip to main content

Reality of Addressing and Sensation(संबोधन और संवेदना की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संबोधन और संवेदना की वास्तविकता इन्सान संबोधन से संवेदना के कार्य को कर सकता है| संबोधन एक ऐसा कार्य होता है| जिसमे एक इन्सान कई दुसरे इंसानों को संबोधित करता है या कोई बात बताने की कोशिश करता है, जो कभी दुसरे इंसानों ने उसके बारे में सुना नहीं हो| संबोधन में कभी कभी इन्सान अपनी संवेदना भी व्यक्त कर देता है| संबोधन वैसे तो कई दुसरे कार्यो के लिए भी किया जाता है, जिसमे कोई इन्सान अपने या कई दुसरे इंसानों को कोई बात बताता है| संबोधन बहुत से कार्यो के लिए किया जाता है| समाज कल्याण के कार्यो के लिए एक ऐसे मंच का उपयोग किया गया हो या किया जाता है| जो किसी पद या प्रतिष्ठा से जुडा हो| लेकिन कभी-कभी संबोधन के लिए इन्सान को कई तरह के मंच पर उतरना पड़ता है| संबोधन भी कई तरह के विषय का होता है, जिसके लिए संबोधन जरुरी बन जाता है| संवेदना एक ऐसा कार्य होता है जिसमे कोई इन्सान किसी दुसरे इन्सान को अपनी भावना व्यक्त करता है| जिसमे अधिकतर इन्सान किसी दुसरे इन्सान के दुःख दर्द के लिए अपनी सहानुभूति संवेदना के जरिये व्यक्त करते है| संवेदना देना भी इन्सान के उस संस्कार को दर्शा देता है| जो उसने

The reality of creations and mysteries( रचनाये और रहस्य की वास्तविकता )By Neeraj kumar

 रचनाये और रहस्य की वास्तविकता 

रहस्य वो होता है जिसको इन्सान समझने में असमर्थ सा दिखता है| रहस्यों को जानना उनको समझना इन्सान की सबसे बड़ी खोज मानी जाती है| दुनिया में ऐसे रहस्य है जिनको आज तक इंसानों के द्वारा समझा नहीं गया| ईश्वर ने धरती पर कुछ रचनाये इस तरह की है| वो आज भी एक रहस्य बनी हुई है यदि इन्सान उन रचनाओ के रहस्यों को जानने का प्रयास करता है तो उसको हमेशा असफलता ही हाथ लगती है| दुनिया में बहुत से ऐसे विषय वस्तु है| जिनकी रचनाये देखकर इन्सान आज भी नहीं समझ पाता की इसके पीछे ऐसे क्या रहस्य हो सकते है| जो इन्सान को सोचने पर मजबूर कर देते है| रहस्य एक ऐसा विषय जिसको समझना हर वो इन्सान चाहता है| जो किसी विषय वस्तु की रचना को देखकर अचंभित हो जाता है| की इसका निर्माण किस तरह किया गया होगा या हुआ होगा| उन रहस्यों को जानना ही इन्सान की सबसे बड़ी जिज्ञासा को बढ़ाती है|

रचनाये और रहस्य का विचार

इन्सान बहुत से विषय वस्तु की रचना करता है| और बहुत से विषय वस्तु ऐसे भी है जो इन्सान के अस्तित्व से भी पहले की है| उन रचनाओं के विचार ही उनका रहस्य बन जाता है| जो ये सोचने पर मजबूर करता है| की उस जगह किस तरह से उस विषय वस्तु की रचना की गई होगी| जो असम्भव् कार्य को दर्शाती है| और उन वस्तु की रचनाये करने में जो समय लगा होगा| वो भी उस समय के लिए सोच विचार का रहस्य बन जाता है| प्राचीनकाल में की गई ऐसी रचनाये जो आज के इंसानों को ये सोचने पर मजबूर करती है की बिना सुविधा के यह कार्य कैसे किया गया होगा| जो हजारो वर्षो तक उन रहस्यों को बनाए रखे हुये है| वो सोच ही इन्सान के लिए उस विषय वस्तु का रहस्य बन जाता है| जिसके बारे में इन्सान सोचने पर मजबूर हो जाता है| दुनिया में आज भी कुछ रचनाये ऐसी है जिनके रहस्यों का अभी भी पता नहीं लगा है| उनमें से भारत देश एक ऐसा देश है| जो रहस्यों से भरा हुआ है| भारत की धरती पर ऐसे स्थान है जो इन्सान को सोचने पर मजबूर करते है| वो उन रहस्यों को जानना चाहता है|  

 

रचनाये और रहस्य का महत्व

इन्सान आज वर्तमान में ऐसी विषय वस्तु का निर्माण कर रहा है जो रहस्यों को उजागर करते हो धरती पर अनेको जगह ऐसी है जिनका रहस्य आज भी एक पहेली को इन्सान के सामने रख देता है पृथ्वी  ही नहीं बल्कि ब्रह्मांड में भी कई ऐसे रहस्य है जिनके बारे में इन्सान की खोज अभी तक असफलता पर पहुची है| इन्सान के द्वारा जब किसी एक रहस्य की पहेली से पर्दा उठता है तो इन्सान के सामने दुसरे रहस्य का जाल सामने आ जाता है| भारत में कुछ ऐसे धार्मिक स्थल मंदिर है| जिनका रहस्य उनकी रचनाओ से उजागर होता है| जो इन्सान की सोच को एक भूलभुलैया में डाल देता है|  

 

रहस्यों को जानना ही इन्सान के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि समझी गई है इन्सान रहस्यों को जानने के लिए आज भी अपने कीमती समय की और ऊर्जा को लगाता रहता है| की कुछ ऐसी रचनाओ के रहस्यों को उजागर करके दुनिया के सामने ला सके| जिससे उन रहस्यों की पहेली से पर्दा उठ सके| और एक नये रहस्य की और अग्रसर हो सके|

हम अपने देश के आध्यात्म ,संस्कृति और शिल्प कला को जितना समझते है उतने ही आश्चर्य चकित होते है और हमारी आस्था निरंतर गहरी होती जाती है

इन्सान आज भी ब्रह्मांड की ऐसी पहेलियो को समझ नहीं पाया है जो ब्रह्मांड के रहस्यों को उजागर करती है| विज्ञानं का सामना जब रहस्यों से होता है तो उन रहस्यों की रूप रेखा विज्ञानं के सामने आती है तो वो उन रहस्यों की चुनौती बन जाती है जिसका सामना विज्ञानं भी नहीं कर पाता| विज्ञानं अपनी लगातार कोशिशो में लगा हुआ है| की ब्रह्मांड और धरती की रचनाओं के रहस्यों को उजागर कर सके|


निष्कर्ष

इन्सान आज उन रहस्यों की खोज कर रहा है| जो इन्सान के अस्तित्व की रुपरेखा को बयाँ करती है रचनाओं के रहस्यों को जानना और समझना एक बड़ी खोज साबित हो सकती है| लेकिन ये कब मुमकिन होगा ये किसी को पता नहीं|


    


The reality of creations and mysteries

The secret is that which looks like a person unable to understand. Knowing the secrets, understanding them is considered to be the greatest discovery of man. There are such mysteries in the world which have not been understood by humans till date. God has done some creations on earth like this. It remains a mystery even today, if a person tries to learn the secrets of those creations, then he always feels the failure. There are many such things in the world. On seeing whose creations, humans still do not understand what such secrets can be behind this. Which makes a person think. Mystery is a subject that every person wants to understand. Who is surprised to see the creation of a subject matter. How it would have been built or should have happened. Knowing those secrets only increases the biggest curiosity of man.

Thought of Creations and mystery 

Human beings create a lot of subject matter. And there are many such things which are even before the existence of human beings. The idea of ​​those creations becomes their secret. Which makes them think. That how the subject matter would have been created at that place. Which represents impossible work. And it would have taken time to create those things. That too becomes the secret of thinking for that time. Such compositions done in ancient times that make today's humans think how this work would have been done without any convenience. Those who have been keeping those secrets for thousands of years. That thinking becomes the secret of that subject matter for humans. The person is forced to think about. Even today there are some compositions in the world whose secrets are still not revealed. Among them, India is one such country. Which is full of secrets. There are places on the land of India that make humans think. He wants to know those secrets.

 

Importance of creations and mysteries

Man is presently creating such a subject which exposes the mysteries. There are many places on the earth, whose secret still today puts a puzzle in front of the human. There are many such mysteries not only in the earth but also in the universe. Human discovery has so far reached failure. When a person is exposed to the mystery of a mystery, the trap of another mystery is revealed in front of the person. Some such religious places in India are temples. Whose secret is revealed by their creations. Which puts the thinking of humans in a labyrinth.

 

Knowing the mysteries is considered to be the biggest achievement for a human being, even today, he keeps applying his precious time and energy to learn the secrets. That we could reveal the mysteries of such creations to the world. So that the mystery of those mysteries can be veiled. And move on to a new mystery.

The more we understand the spirituality, culture and craftsmanship of our country, the more we are surprised and our faith gets deeper.

Even today humans have not understood such puzzles of the universe which reveal the mysteries of the universe. When science encounters mysteries, then the outline of those mysteries comes to science, then it becomes a challenge to those mysteries which even science cannot face. Science is engaged in its constant efforts. That he could reveal the secrets of the universe and the creations of the earth.

The conclusion

Man is searching for those secrets today. Which explains the outline of the existence of human beings, knowing and understanding the mysteries of the creations can prove to be a big discovery. But no one knows when this will be possible.

 


Comments

Popular posts from this blog

Reality of Addressing and Sensation(संबोधन और संवेदना की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संबोधन और संवेदना की वास्तविकता इन्सान संबोधन से संवेदना के कार्य को कर सकता है| संबोधन एक ऐसा कार्य होता है| जिसमे एक इन्सान कई दुसरे इंसानों को संबोधित करता है या कोई बात बताने की कोशिश करता है, जो कभी दुसरे इंसानों ने उसके बारे में सुना नहीं हो| संबोधन में कभी कभी इन्सान अपनी संवेदना भी व्यक्त कर देता है| संबोधन वैसे तो कई दुसरे कार्यो के लिए भी किया जाता है, जिसमे कोई इन्सान अपने या कई दुसरे इंसानों को कोई बात बताता है| संबोधन बहुत से कार्यो के लिए किया जाता है| समाज कल्याण के कार्यो के लिए एक ऐसे मंच का उपयोग किया गया हो या किया जाता है| जो किसी पद या प्रतिष्ठा से जुडा हो| लेकिन कभी-कभी संबोधन के लिए इन्सान को कई तरह के मंच पर उतरना पड़ता है| संबोधन भी कई तरह के विषय का होता है, जिसके लिए संबोधन जरुरी बन जाता है| संवेदना एक ऐसा कार्य होता है जिसमे कोई इन्सान किसी दुसरे इन्सान को अपनी भावना व्यक्त करता है| जिसमे अधिकतर इन्सान किसी दुसरे इन्सान के दुःख दर्द के लिए अपनी सहानुभूति संवेदना के जरिये व्यक्त करते है| संवेदना देना भी इन्सान के उस संस्कार को दर्शा देता है| जो उसने

Reality of Good and Evil(अच्छाई और बुराई की वास्तविकता) by Neeraj Kumar

  अच्छाई   और बुराई की वास्तविकता वास्तविकता हर एक इन्सान के जीवन के दो पहलु होते है जो जीवन भर उसके साथ साथ चलते है एक अच्छाई और दूसरा बुराई| ये उस इन्सान को ही सोचना और समझना होता है की वो जीवन भर किस रास्ते चलना चाहता है| वो इन्सान चाहे तो अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते चल सकता है और वही इन्सान चाहे तो बुरा बनकर बुराई के रास्ते चल सकता है| अच्छाई और बुराई पर विचार   अच्छाई और बुराई जीवन के वो रास्ते है, जिसमे इन्सान को ये समझना होता है की किस रास्ते पर कितनी कठिनाई मिलेगी| और वो उस रास्ते को अपनाकर अपना जीवन व्यतीत करता है या कर सकता है| हम ये नहीं कहेंगे की इन्सान को अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते ही चलना चाहिए, और हम ये भी नहीं कहेगे की इन्सान को बुरा बनकर बुराई के रास्ते ही चलना चाहिए| क्योकि दोनों रास्तो की कठिनाईयाँ और चुनौतिया अलग अलग होती है|  अच्छाई बुराई का महत्व हम जीवन में जो रास्ता चुनते है, उस रास्ते की कठिनाईयो के साथ जीवन की कसौटी को पार करना हमारा कर्तव्य बन जाता है| जो हमारे व्यक्तित्व की एक पहचान दुनिया के सामने रखता है| कई दुसरे इन्सान हमारी उस बनाई गई पहचान को अपनाते ह

The Reality of Hindu and Hindustan(हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता) By Neeraj kumar

  हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता हिन्दू  धर्म एक ऐसा धर्म जो दुनिया में सबसे पहले हुआ | जिसका इतिहास करीब 10 हजार साल से भी पुराना मिलता है| जिसके प्रमाण अभी भी कही ना कही मिल जाते है| जो सत युग से त्रेता युग से द्वापर युग से कलयुग तक पहुच सका है| हर युग में हिन्दू धर्म के महत्व को समझाया गया है| हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जो दुनिया का सातवाँ सबसे बड़ा देश माना जाता है| जिसको समुन्द्र ने तीनो और से घेर रखा है| हिंदुस्तान वो देश है| जहाँ स्वयं देवी देवताओ का वास है| जो स्वयं हिन्दू धर्म के लिए सही साबित होते है| हिमालय से कन्याकुमारी तक ना जाने कितने तीर्थ स्थल है| जो हिन्दुओ की आस्था के प्रतीक माने जाते है हिन्दू और हिंदुस्तान दोनों की वास्तविकता एक दुसरे से पूरी तरह जुडी हुई है| हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जिसमे हर राज्य की अपनी एक भाषा होते हुए भी अपने आप में एकता का प्रतीक है| हिंदुस्तान की कोई मात्र भाषा नहीं है| सिर्फ हिंदुस्तान की राज भाषा है |  हिंदी जो सविधान लागू होने के बाद से मानी जाती है| हिंदुस्तान पर प्रचीन काल से ही दुसरे देशो की नजर बनी रही और आज भी पडोसी देशो की न