Skip to main content

Reality of Addressing and Sensation(संबोधन और संवेदना की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संबोधन और संवेदना की वास्तविकता इन्सान संबोधन से संवेदना के कार्य को कर सकता है| संबोधन एक ऐसा कार्य होता है| जिसमे एक इन्सान कई दुसरे इंसानों को संबोधित करता है या कोई बात बताने की कोशिश करता है, जो कभी दुसरे इंसानों ने उसके बारे में सुना नहीं हो| संबोधन में कभी कभी इन्सान अपनी संवेदना भी व्यक्त कर देता है| संबोधन वैसे तो कई दुसरे कार्यो के लिए भी किया जाता है, जिसमे कोई इन्सान अपने या कई दुसरे इंसानों को कोई बात बताता है| संबोधन बहुत से कार्यो के लिए किया जाता है| समाज कल्याण के कार्यो के लिए एक ऐसे मंच का उपयोग किया गया हो या किया जाता है| जो किसी पद या प्रतिष्ठा से जुडा हो| लेकिन कभी-कभी संबोधन के लिए इन्सान को कई तरह के मंच पर उतरना पड़ता है| संबोधन भी कई तरह के विषय का होता है, जिसके लिए संबोधन जरुरी बन जाता है| संवेदना एक ऐसा कार्य होता है जिसमे कोई इन्सान किसी दुसरे इन्सान को अपनी भावना व्यक्त करता है| जिसमे अधिकतर इन्सान किसी दुसरे इन्सान के दुःख दर्द के लिए अपनी सहानुभूति संवेदना के जरिये व्यक्त करते है| संवेदना देना भी इन्सान के उस संस्कार को दर्शा देता है| जो उसने

The Reality of Game and player(खेल और खिलाडी की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

खेल और खिलाडी की वास्तविकता

खेल वो है जिसको खिलाडी अपने मनोरंजन के लिए खेलता है| खेल को एक ऐसा मनोरंजन कह सकते है जिसमे खिलाडी की उपयोगिता बहुत महत्व रखती है| दुनिया में बहुत सारे खेल है और उन खेलो को खेलने के लिए खिलाडियों की जरुरत होती है किसी भी खेल को बिना खिलाडी के नहीं खेला जाता| सभी खेलो को खेलने के लिए खिलाडी की जरूरत होती है खेल का महत्व जीवन के बचपन से ही इन्सान महसूस करने लगता है| इन्सान अपने जीवन में कई खेल खेलता है लेकिन जब वो किसी खेल का खिलाडी बनने के बारे में सोचता है तो उस इन्सान के प्रति उस खेल को महत्व दिया जाता है| जिसका खिलाडी बनने के बारे में सोचा था| अलग अलग खेल को अलग अलग तरह से ही खेला जाता है| कुछ खेलो को खेलने के लिए कुछ विशेष वस्तुओ की जरुरत पड़ती है| उनके बिना कोई भी खिलाडी उस खेल को नहीं खेल सकता है और कुछ खेल ऐसे भी है जिनको खेलने के लिए कोई वस्तु की जरुरत नहीं पड़ती, वो सिर्फ खिलाडी आपस में ही खेल सकते है| खेल किसी भी उम्र में खेला जाये वो अपने मनोरंजन का पूरा उत्साह खिलाडियों में जगाये रखता है|

खेल और खिलाडी का विचार

खेल और खिलाडी दोनों का महत्व एक दुसरे से पूरी तरह जुड़ा हुआ है| जैसे खेल के लिए खिलाडी की जरुरत होती है उसी तरह खिलाडी को खेल का चयन करना होता है| खेल खेलते समय खिलाडी मनोरंजन और आनन्द को महसूस करते है खिलाडी सुबह से शाम तक खेल खेल सकते है| कुछ खिलाडी अपने जीवन का अधिकांश समय उस खेल को खेलते हुए बिता देते है जिसमे उस खिलाडी की बहुत रूचि होती है| खिलाडी जब अपने जीवन में खेल के महत्व को समझते है| तो उससे अपने जीवन का हिस्सा बना लेते है और एक लम्बे समय तक उस खेल से अपने जीवन को उज्वल बनाने का प्रयास करते है जब किसी खिलाडी को खेल में कामियाबी मिलती है तो किसी दुसरे खिलाडी के मन में उसके विचार आने लगते है जो अपने जीवन में भी उस खेल में कामियाबी को तलाशने लगता है|

खेल और खिलाडी का महत्व

खेल अकेले भी खेला जा सकता है और खेल कई दुसरे खिलाडियों के साथ भी खेला जा सकता है। खेल खेलने के लिए एक अलग मैदान की जरुरत होती है, जिसको उसी मैदान में खिलाडियों के द्वारा खेला जा सकता है| खेल, खिलाडी के आत्मबल और इच्छा शक्ति को भी दर्शाते है। खिलाडी कोई भी इन्सान बन सकता है। दुनिया में बहुत से ऐसे खिलाडी है, जो अपने खेल के  प्रदर्शन से एक पहचान बनाते है| खिलाडी अपने खेल को एक उम्र सीमा के हिसाब से ही खेल सकते है| खिलाडी बनने के लिए आत्मविश्वास और मेहनत की जरुरत होती है|

 

खिलाडी अपने खेल के प्रदर्शन से दुनिया का दिल जीत सकते है| खिलाडी किसी भी खेल में अपना वो उपलब्धि पा सकते है जो किसी दुसरे खिलाडियों को नहीं मिली होती। हर खिलाडी एक नया मुकाम बनाता है और किसी दुसरे खिलाडी के लिए उसकी चुनौती को छोड़ देता है जिसको पार करके खिलाडी फिर एक नया मुकाम बनाता है जो अपने आप में एक उपलब्धि का क्षेत्र समझा जाता है|

निष्कर्ष

खेल और खिलाडी की वास्तविकता एक दुसरे से जुडी हुई है खेल की बात की जायेगी तो खिलाडी की भी बात की जाएगी|



The Reality of Game and player

The game is that which the player plays for his entertainment. Sports can be called such an entertainment in which the utility of the player is of great importance. There are many games in the world and players are needed to play those games, no game is played without a player. Players are needed to play all the games, the importance of sports is felt by a person from the very childhood of life. A person plays many games in his life, but when he thinks of becoming a player of any game, then that game is given importance towards that person. Whose player I thought of becoming. Different games are played in different ways. Some games require some special items to play. Without them no player can play that game and there are some games which do not require any Vastu to play, they can play only players among themselves. The game can be played at any age, it keeps the full enthusiasm of its entertainment in the players.

Thought of game and player

The importance of both the game and the player is completely related to each other. Just like a game requires a player, in the same way the player has to choose the game. Players feel the entertainment and fun while playing the game. Players can play the game from morning till evening. Some players spend most of their life playing the game in which that player is very interested. When players understand the importance of sports in their lives. So they make it a part of their life and try to make their life bright with that game for a long time. I also start looking for the weakness in that game.

Importance of sports and players

The game can also be played alone and the game can also be played with many other players, to play the game, a separate ground is needed, which can be played by the players in the same ground. Sports also show the self-power and will power of the player, the player can become any human being. Players can play their game according to an age limit only. It takes confidence and hard work to become a player.

 

Players can win the hearts of the world by the performance of their game. Players can get their achievement in any game which no other players have got, every player becomes a new level and leaves his challenge to another player, after crossing which the player then becomes a new position which is his own. There is a zone of achievement in you.

The Conclusion

The reality of the game and the player is related to each other, if the game is talked about, then the player will also be talked about. 

 

    

 

Comments

Popular posts from this blog

Reality of Addressing and Sensation(संबोधन और संवेदना की वास्तविकता) By Neeraj Kumar

  संबोधन और संवेदना की वास्तविकता इन्सान संबोधन से संवेदना के कार्य को कर सकता है| संबोधन एक ऐसा कार्य होता है| जिसमे एक इन्सान कई दुसरे इंसानों को संबोधित करता है या कोई बात बताने की कोशिश करता है, जो कभी दुसरे इंसानों ने उसके बारे में सुना नहीं हो| संबोधन में कभी कभी इन्सान अपनी संवेदना भी व्यक्त कर देता है| संबोधन वैसे तो कई दुसरे कार्यो के लिए भी किया जाता है, जिसमे कोई इन्सान अपने या कई दुसरे इंसानों को कोई बात बताता है| संबोधन बहुत से कार्यो के लिए किया जाता है| समाज कल्याण के कार्यो के लिए एक ऐसे मंच का उपयोग किया गया हो या किया जाता है| जो किसी पद या प्रतिष्ठा से जुडा हो| लेकिन कभी-कभी संबोधन के लिए इन्सान को कई तरह के मंच पर उतरना पड़ता है| संबोधन भी कई तरह के विषय का होता है, जिसके लिए संबोधन जरुरी बन जाता है| संवेदना एक ऐसा कार्य होता है जिसमे कोई इन्सान किसी दुसरे इन्सान को अपनी भावना व्यक्त करता है| जिसमे अधिकतर इन्सान किसी दुसरे इन्सान के दुःख दर्द के लिए अपनी सहानुभूति संवेदना के जरिये व्यक्त करते है| संवेदना देना भी इन्सान के उस संस्कार को दर्शा देता है| जो उसने

The Reality of Hindu and Hindustan(हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता) By Neeraj kumar

  हिन्दू और हिंदुस्तान की वास्तविकता हिन्दू  धर्म एक ऐसा धर्म जो दुनिया में सबसे पहले हुआ | जिसका इतिहास करीब 10 हजार साल से भी पुराना मिलता है| जिसके प्रमाण अभी भी कही ना कही मिल जाते है| जो सत युग से त्रेता युग से द्वापर युग से कलयुग तक पहुच सका है| हर युग में हिन्दू धर्म के महत्व को समझाया गया है| हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जो दुनिया का सातवाँ सबसे बड़ा देश माना जाता है| जिसको समुन्द्र ने तीनो और से घेर रखा है| हिंदुस्तान वो देश है| जहाँ स्वयं देवी देवताओ का वास है| जो स्वयं हिन्दू धर्म के लिए सही साबित होते है| हिमालय से कन्याकुमारी तक ना जाने कितने तीर्थ स्थल है| जो हिन्दुओ की आस्था के प्रतीक माने जाते है हिन्दू और हिंदुस्तान दोनों की वास्तविकता एक दुसरे से पूरी तरह जुडी हुई है| हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जिसमे हर राज्य की अपनी एक भाषा होते हुए भी अपने आप में एकता का प्रतीक है| हिंदुस्तान की कोई मात्र भाषा नहीं है| सिर्फ हिंदुस्तान की राज भाषा है |  हिंदी जो सविधान लागू होने के बाद से मानी जाती है| हिंदुस्तान पर प्रचीन काल से ही दुसरे देशो की नजर बनी रही और आज भी पडोसी देशो की न

Reality of Good and Evil(अच्छाई और बुराई की वास्तविकता) by Neeraj Kumar

  अच्छाई   और बुराई की वास्तविकता वास्तविकता हर एक इन्सान के जीवन के दो पहलु होते है जो जीवन भर उसके साथ साथ चलते है एक अच्छाई और दूसरा बुराई| ये उस इन्सान को ही सोचना और समझना होता है की वो जीवन भर किस रास्ते चलना चाहता है| वो इन्सान चाहे तो अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते चल सकता है और वही इन्सान चाहे तो बुरा बनकर बुराई के रास्ते चल सकता है| अच्छाई और बुराई पर विचार   अच्छाई और बुराई जीवन के वो रास्ते है, जिसमे इन्सान को ये समझना होता है की किस रास्ते पर कितनी कठिनाई मिलेगी| और वो उस रास्ते को अपनाकर अपना जीवन व्यतीत करता है या कर सकता है| हम ये नहीं कहेंगे की इन्सान को अच्छा बनकर अच्छाई के रास्ते ही चलना चाहिए, और हम ये भी नहीं कहेगे की इन्सान को बुरा बनकर बुराई के रास्ते ही चलना चाहिए| क्योकि दोनों रास्तो की कठिनाईयाँ और चुनौतिया अलग अलग होती है|  अच्छाई बुराई का महत्व हम जीवन में जो रास्ता चुनते है, उस रास्ते की कठिनाईयो के साथ जीवन की कसौटी को पार करना हमारा कर्तव्य बन जाता है| जो हमारे व्यक्तित्व की एक पहचान दुनिया के सामने रखता है| कई दुसरे इन्सान हमारी उस बनाई गई पहचान को अपनाते ह